सूर्य हमारे धरती को प्रकाश और ऊर्जा देने का एकमात्र प्राकृतिक साधन है, सूर्य के ऊर्जा और प्रकाश के बिना धरती पर जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। लेकिन क्या होगा अगर सूर्य अपनी जगह से अचानक गायब हो जाये तो ? क्या सूर्य के बिना भी इस धरती पर जीवन संभव हो पायेगा ?

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम सूर्य के बिना इस धरती पर जीवन की परिकल्पना को जानेंगे।

सूर्य पिछले 45 अरब सालो से हमारी ग्रह पृथ्वी को ऊर्जा और प्रकाश दे रहा है लेकिन सूर्य हमेशा धरती पर ऐसे मेहरबान नहीं रहने वाला। वैज्ञानिकों के अनुसार सूर्य की औसत आयु करीब 9 अरब साल आंकी गयी है अब जैसा की सूर्य पिछले 4.5 अरब साल से लगातार प्रकाशमान है इसका मतलब सूर्य अपनी औसत आयु के आधे पड़ाव पर है ।

क्या होगा अगर सूर्य गायब हो जाये तो-

अब अगर इस केस में सूर्य अचानक से गायब हो जाये तो करीब 500 सेकण्ड तक कुछ नहीं होगा क्योकि सूर्य की किरणों को धरती तक आने के लिए करीब 8.30 मिनट लगते है और इसके बाद पृथ्वी पर अनंतकाल के लिए अँधेरा पसर जायेगा ।

सूर्य के चले जाने के बाद चाँद भी अंधकारमय हो जायेगा क्योकि हम जानते है कि चाँद सूर्य की किरणों से ही प्रकाशमान होता है । सूर्य और चाँद के गायब होने के बाद पृथ्वी के पास रोशनी का एक ही जरिया होगा, आसमान के चमकते हुए सितारे हालाँकि इसकी रौशनी बेहद कम होगी ।

सूर्य के जाने के बाद सूर्य का पृथ्वी से ग्रेविटेशनल फाॅर्स ख़त्म हो जायेगा, इसका मतलब पृथ्वी अब सौरमंडल के चक्कर न लगाकर 3 km/sec की रफ़्तार से स्पेस में एक अंतहीन सफर पर निकल पड़ेगी ।

हालांकि तब तक किसी को इसके बारे में कुछ पता नहीं चलेगा और लोग रात के गुजरने का इंतज़ार करेंगे, लेकिन उन्हें शायद अब यह नहीं पता होगा कि अब इस भयावह रात का अंत अब कभी नहीं होने वाला। हालांकि मुमकिन है कि तब तक वैज्ञानिको को इस पुरे माजरे की भलीभांति समझ हो जाएगी और वो पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व को बचने के हर संभव प्रयास में लग जायेंगे।

इन्हे भी पढ़े –

सूर्य के जाने के बाद हम कोयले, पेट्रोलियम,नुक्लिअर ईंधन और बिजली के ख़त्म होने तक अपने शहरो को पहले की भांति रौशन रख पाएंगे, लेकिन यह ज़्यादा दिनों तक मुमकिन नहीं हो पायेगा। अब इंसानो के पास सबसे बड़ी समस्या होगी भोजन की व्यवस्था, लेकिंन पौधों द्वारा भोजन बनाने की प्रक्रिया रुक जाएगी क्योंकि सूर्य की रोशनी के बिना पौधे प्रकाश शंश्लेषण की प्रक्रिया को पूरा नहीं कर पाएंगे, आपकी जानकारी के लिए बता दू कि वर्तमान में हमारे 99 प्रतिशत भोजन प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया पर आधारित है ।

पृथ्वी पर भोजन की कमी की वजह से लूटपाट, मारकाट जैसी कई आपराधिक घटनाये बढ़ने लगेगी क्योकि भूखे पेट किसी भी देश की सेना अपने नागरिको की रुरक्षा करने में समर्थ नहीं होगी।

सूर्य के बिना हमारी धरती का तापमान गिरने लगेगा, शुरुवाती दौर में पृथ्वी का तापमान -20 डिग्री तह रहेगा लेकिन दो महीने के बाद पृथ्वी का औसत तापमान -100 डिग्री तक गिर जायेगा, और इस तरह से समुन्द्र और नदियाँ समेत पूरा का पूरा पृथ्वी ग्रह जमने लगेगा।

इस कम तापमान में वायुमंडल का संतुलन बिगड़ जायेगा और पूरी पृथ्वी बर्फ की तरह सफ़ेद होने लगेगी। धीरे धीरे पृथ्वी का तापमान -240 डिग्री तक गिर जायेगा, अब इस परिस्थिति में जिन्दा रहने के लिये इंसानो को पृथ्वी के भूतापीय ऊर्जा का सहारा लेना होगा जिसके लिए पृथ्वी के केंद्र तक जाने की आवश्यकता होगी।

सूर्य

सूर्य के जाने के 20 से 30 सालो में हमारा ग्रह इतना ठंडा हो जायेगा कि हवाये बर्फ के रूप में चलने लगेगी और साथ ही साथ अंतरिक्ष (Space) से घातक रेडियो एक्टिव (Radio Active) किरणे भी पृथ्वी पर आने लगेगी। DNA को डैमेज कर देने वाली इन खतरनाक किरणों से लम्बे समय तक खुद को बचा पाना इंसानो के लिए शायद मुमकिन नहीं होगा।

इस विषम परिस्थिति और भोजन की कमी के चलते बचे खुचे इंसानो के पास स्पेसशिप में बैठकर किसी दूसरे अनुकूल ग्रह पर जाने के सिवाय जीवन को सुरक्षित रख पाने का कोई दूसरा तरीका नहीं होगा।

इंसानो के पलायन के बाद, पृथ्वी सिर्फ एक बर्फ़ीली ग्रह रह जायेगी जिसपर एक ज़माने में इंसानो के हसी के ठहाके गुजते थे, एक ऐसी धरती जिसपर एक सभ्य और सांस्कृतिक मानव सभ्यता का विकास हुआ था.

हालांकि इंसानो के इस निराशाजनक अंत का एक सकारात्मक पहलु ये भी है कि पृथ्वी पर जीवन पूरी तरह से नष्ट नहीं होगा, क्योंकि समुन्द्र के तल में पाए जाने वाले सूक्ष्म जीव यानि की माइक्रोऑर्गेनिस्म (microorganism), सूर्य के किरणों के बजाय पृथ्वी के केंद्र से आने वाली ऊर्जा से अपना भोजन बनाते है। इस तरह से सूर्य के गायब होने के अरबो सालो बाद भी इन समुंद्री जीवों की सेहत पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

अपने इस सफर में पृथ्वी न जाने कितने तारो और ग्रहो के करीब से गुजरेगी, और क्या पता शायद पृथ्वी एक दिन किसी ऊर्जावान सितारे के गुरुत्वाकर्षण में आकर उसके चक्कर काटने लगे। और उस सितारे की गर्मी से महासागरों की बर्फ पिघलनी शुरू हो, हवाएं बर्फ़ीली न होकर सामान्य चलने लगे और बर्फ़ की चादर से ढकी इस पृथ्वी पर जीने की अनुकूल परिस्थितिया बन जाये। फिर समुंद्री जीव पृथ्वी पर आकर Evolution की प्रक्रिया को प्रारंभ कर दे, और फिर सैकड़ो सालो के निरंतर विकास के बाद मानव फिर से पृथ्वी पर अपने कदमो के निशान बना पाये।

नीचे कमेंट करके बताये की ये पोस्ट क्या होगा अगर सूर्य गायब हो जाये तो । What happens If Sun is Disappeared कैसे लगी और अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया तो कृपया इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये, आप ऐसे और भी रोचक आर्टिकल्स और मनोरंजन के लिए हमारे फेसबुक पेज Entertainment Cafe को लाइक करके इस वेबसाइट को फॉलो कर सकते है फाइनली यहाँ तक पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !