प्रॉब्लम्स हमारी ज़िन्दगी की एक अभिन्न सच्चाई है, मुसीबते हर व्यक्ति के ज़िन्दगी में आती और जाती रहती है । जहा कुछ लोग इस बात को समझ लेते है तो वही कई लोग पूरी ज़िन्दगी इसका रोना रोते है ।

हम सभी के जीवन में एक ऐसा समय आता है जब सभी चीज़े हमारे विरोध में हो रही होती है या फिर अचानक कुछ ऐसा होता है जिसकी हमें जरा भी उम्मीद नहीं होती । जैसे की किसी को प्यार में धोखा मिलता है, तो किसी की अच्छी खासी जॉब छूट जाती है, कोई अपनों से बिछड़ जाता है तो कोई Exams में फेल हो जाता है ।

दोस्तों ज़िन्दगी में हमारे सामने ऐसी मुसीबते आती रहती है और हम उन मुसीबतो के सामने हमेशा झुक जाते है । अक्सर हमें समझ नहीं आता की आगे क्या करना चाहिये और इस मोड़ पर हम ये तय नहीं कर पाते कि क्या सही है और क्या गलत ?

इन्हे भी पढ़े –

इस कठिन समय में ज्यादातर लोग टूट जाते है , तो कई भगवान को कोसते है कि आपने मेरे साथ ही ऐसा क्यू किया तो वही कुछ दूसरे लोग भी होते है जो मुसीबत के इन पलो में खुद को संभाल लेते है । दोस्तों ये वो लोग होते है जिनके हौसले बुलंद होते है जिनमे कुछ कर गुजरने की चाह होती है

साइकोलॉजी के अनुसार इंसान किसी प्रॉब्लम को दो तरीको से देखता है या फिर यू कहे कि हमारे समाज में दो तरह के इंसान पाये जाते है ।

1)- प्रॉब्लम पर फोकस करने वाले इंसान

2)- सोल्युशन पर फ़ोकस करने वाले इंसान

पहले टाइप के इंसान सोल्युशन से ज्यादा प्रॉब्लम के बारे में सोचते है जैसे कि ये क्यों हुआ ऐसा नहीं होना चाहिए था, ये हर बार मेरे साथ ही क्यों होता है । और इस तरह से प्रॉब्लम के बारे में सोचते सोचते ये लोग मुसीबत में उलझकर रह जाते है ।

वही दूसरे टाइप के इंसान प्रॉब्लम्स पर फोकस करने के बजाय सलूशन पर फोकस करना पसंद करते है, ऐसे लोग मुसीबतों के सलूशन के बारे में ज्यादा सोचते है जिससे इन मुसीबतों का डंटकर सामना कर सके और आने वाले मुसीबतों से बचा जा सके ।

दोस्तों अब मै आपको एक छोटी सी कहानी सुनाऊंगा जो आपको मुसीबतो से लड़ने के लिए हौसला देगी ।

ये कहानी है नेपोलियन बोनापार्ट की, जी हा वही नेपोलियन बोनापार्ट जिसको विश्व के सबसे महान और निडर योद्धाओ में गिना जाता है ।  कहते है कि नैपोलियन के कुशल नेतृत्व में इनकी सेना कभी पराजित नहीं होती थी । एक बार नेपोलियन आल्पस पर्वत को पार करने के इरादे से अपनी सेना के साथ निकले, लेकिन सामने एक विशालकाय पहाड़ को देखकर सेना में हलचल मच गयी ।

नेपोलियन ने सैनिको के इरादों को बुलंद करते हुए सेना को चढ़ाई करने का आदेश दिया ।  तभी वहा खड़ी एक बुजुर्ग औरत पास आकर बोली, यहाँ जितने भी लोग आये है सब मारे गए है क्या तुम भी मरना चाहते हो ? अगर तुम्हे अपनी ज़िन्दगी से प्यार है तो वापस चले जाओ ।

उस औरत की ये बातें सुनकर नेपोलियन उत्साहित होकर बोला – आपने मेरे हौसले को दोगुना कर और इसके लिए मै आपका ज़िन्दगी भर अहसानमंद रहूँगा, और ये कहते हुए झट से हीरो का हर उतारकर उस बुजुर्ग महिला को पहना दिया ।

वो औरत नेपोलियन के बातो से प्रभावित होकर बोली – तुम पहले इंसान हो जो मेरी बातें सुनकर डरे नहीं, जो करने या मरने की सोच और मुसीबतो का सामना करने का इरादा रखते है वो लोग कभी नहीं हारते । इसके बाद नेपोलियन ने उस पर्वत पर चढाई भी की और उस युद्ध को जीता भी, क्योकि नेपोलियन मुसीबतो को देखकर भागे नहीं बल्कि डटकर उसका मुकाबला किया । दोस्तों जिनके हौसले बुलंद होती है उनके सामने बड़ी से बड़ी मुश्किलें भी घुटने टेक देती है ।

हर मंजिल होगी अपनी एक ऐसे सफर का इरादा कर लो, न हारेंगे हौसला उम्रभर तुम खुद से ये वादा कर लो ।

नीचे कमेंट करके बताये की ये पोस्ट जो करने या मरने का ईरादा रखते है वो कभी नहीं हारते । A Motivational Story आपको कैसी लगी और अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया तो कृपया इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये, आप ऐसे और भी रोचक आर्टिकल्स के लिए आप हमारे फेसबुक पेज Entertainment Cafe को लाइक करके इस वेबसाइट को फॉलो कर सकते है, फाइनली यहाँ तक पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !